Monday, June 4, 2012

........ साँस

जाने कब से
सुनते आए थे ...
कि बिजलियाँ गिरा करती है
आसमानों से ...
कुछ रोज गुजरे है बस ...
आसमानों में हमेशा उड़ने की
आदते ही तो सुधारी है जरा ...
चार सीढियाँ ही तो
उचकते पंजो ने उतारी है जरा ...
उनके सिरों में आँखों ने
उनीदी पलकें खोली ही तो है जरा ...
देखो भी जाने कब यह बात हुई
कि बिजलियों ने
किसी बरस ...
किसी रोज ...
जमीन में बो दिये थे अपने बीजे ...
और अब बिजलियाँ
जमीन में कहीं बहुत गहरे से
मेरे तलुवों के नीचे से उगती है ...
तो ठीक-
तय रहा ...
मेरे कहने को ...
बिजलियाँ अब गिरा नहीं करती ...
मेरे तलुवों की
कोख तले उगा करती है ...

~हेमा~

Post Comment

7 comments:

  1. वाह! सुंदर शिल्प और उतने ही सुंदर भाव.. बस 'जमीन में... बीजें'में बीज होना चाहिए शायद, बीजें नहीं।

    ReplyDelete
  2. वाह ... बेहतरीन
    कल 06/06/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' क्‍या क्‍या छूट गया ''

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर..................

    अनु

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बढ़िया


    सादर
    -------
    ‘जो मेरा मन कहे’ पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  5. क्या सुंदर रचना....
    सादर।

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete